कोरोना संक्रमित महिला डॉक्टर को बिल नहीं चुकाने पर निजी अस्पताल ने बनाया बंधक

 Private hospital held hostage for not paying bill to Corona infected female doctor


गोरखपुर समाचार ब्यूरो 

कोरोना योद्धा कहे जा रहे डॉक्टरों को न केवल आम जनता बल्कि अपने ही डॉक्टरो ने अपने ही पेशे के लोगों से दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ रहा है। तेलंगाना के हैदराबाद में निजी अस्पताल ने 1.15 लाख रुपये का बिल ना भुगतान करने पर कोरोना संक्रमित महिला डॉक्टर को निजी अस्पताल ने बंदी बना लिया। इस घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। वीडियो खुद पीड़िता ने बनाया है। 

सरकारी फीवर अस्पताल की सिविल असिस्टेंट सर्जन इस वीडियो में एक दिन के इलाज के लिए 1.15 लाख रुपये वसूलने का निजी अस्पताल प्रबंधन पर आरोप लगा रही हैं। उन्होंने दावा किया है कि, अस्पताल में न तो उन्हें उचित दवा दी गई और न डिस्चार्ज किया गया। डॉक्टर ने कहा कि कोरोना पॉजिटिव संक्रमित मिलने के बाद से वह अपने घर में रहकर इलाज कर रही थीं और होम क्वारंटीन थीं।

 एक जुलाई की आधी रात में उन्हें सांस लेने में दिक्कत महसूस हुई।और इसके चलते वह निजी अस्पताल में भर्ती हो गईं। एक दिन के इलाज का 1.15 लाख रुपये का बिल बनाया गया।जहा वह इसे चुकाने में असमर्थ है क्योंकि यह बहुत ज्यादा रकम  है,और वह मधुमेह रोगी भी हैं ,और उनका सही से इलाज नहीं किया गया। अब 40 हजार रुपये भुगतान करने के बावजूद उन्हें बंदी बना लिया गया है। उन्होंने कहा, इस घटना को लेकर निजी अस्पताल के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई है।

Post a Comment

0 Comments