गोरखपुर रेलवे वर्कशॉप में लगाया गया ऐसी मशीन, जो शरीर का तापमान 99 से ऊपर आते ही बजने लगता है अलार्म की घंटी

A machine installed in Gorakhpur railway workshop, which starts ringing as soon as the body temperature rises above 99

गोरखपुर समाचार ब्यूरो 

गोरखपुर रेलवे  वर्कशॉप में लगे ऑटोमेटिक थर्मल डिटेक्टर ने कोरोना संक्रमण पर काफी हद तक अंकुश लगाया है। शनिवार को दो कर्मियों के शरीर का तापमान 99 से ऊपर था। कर्मी जैसे ही थर्मल डिटेक्टर मशीन के सामने जा पहुंचे वैसे ही मशीन ने अलार्म की घंटी बजने लगी और अलर्ट जारी कर दिया। साथ ही बैरियर भी गिर गया। इसके बाद दोनों कर्मी घर चले गए।

जानकारी के मुताबिक आठ कर्मचारी अब तक वर्कशॉप के कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। इनमें सभी स्वस्थ भी हो गए हैं। इन्हीं कर्मियों में तीन ऐसे थे, जिनके शरीर का तामपान अधिक था। मशीन ने अलर्ट किया था, तो विभाग ने जांच कराई थी। इसके बाद तीनों पॉजिटिव निकले। जबकि वह इस समय में वह स्वस्थ्य हैं। 


सात दिनों से नहीं मिले कोरोना संक्रमित 


इसी मशीन का नतीजा है कि, एक सप्ताह से वर्कशॉप में कोई भी संक्रमित कर्मचारी या अधिकारी नहीं मिला है। रेल वर्कशॉप में प्रवेश के समय अगर किसी के शरीर का तापमान 99 डिग्री फारेनहाइट से अधिक होता है, तो मशीन से अलार्म बजने लगता है। साथ ही बैरियर भी अपने आप गिर जाता है।


थर्मल इमेजर आने वालों का तामपान रिकॉर्ड करता है। उनके एंट्री का टाइम भी दर्ज होता है। एडब्ल्यूएम ने बताया कि, यह सब कुछ कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए है। शरीर का तामपान अधिक होते ही अलार्म बजने के साथ बैरियर गिर जाता है।   थर्मल इमेजर कैमरा वर्कशॉप के दो एंट्री प्वाइंट पर लगा दिए गए हैं। शनिवार से इससे स्क्रीनिंग भी शुरू हो गई। 

Post a Comment

0 Comments